Receive all updates via Facebook. Just Click the Like Button Below...

Get this Here

अपनी खामोशियाँ खोजे

Google+ Followers


बड़ी खामोसी से बैठे हैं फूलो के धरौदे....जरा पूछ बतलाएंगे सारी गुस्ताखिया....!!!______ प्यासे गले में उतर आती....देख कैसे यादों की हिचकियाँ....!!!______ पलके उचका के हम भी सोते हैं ए राहुल....पर ख्वाब हैं की उन पर अटकते ही नहीं....!!!______ आईने में आइना तलाशने चला था मैं देख....कैसे पहुचता मंजिल तो दूसरी कायनात में मिलती....!!! धुप में धुएं की धुधली महक को महसूस करते हुए....जाने कितने काएनात में छान के लौट चूका हूँ मैं....!!!______बर्बादी का जखीरा पाले बैठी हैं मेरी जिंदगी....अब और कितना बर्बाद कर पाएगा तू बता मौला....!!!______ सितारे गर्दिशों में पनपे तो कुछ न होता दोस्त....कभी ये बात जाके अमावास के चाँद से पूछ लो....!!!______"

समर्थक

गुरुवार, 15 नवंबर 2012

चाचा स्पेशल...!!!

Who come forward to nab these situation but unfortunately everyone is still busy in their satire..!!!Wow..Youth Nation is busy in useless..!!!! 
सड़के चौराहे हैं बच्चो से लदे...
फटे पुराने थामे चिथ्थडों से सजे ..!!

कटोरी टूटी ... किस्मत फूटी
कौन कहता की वो हैं चाचा के सगे ..!!
Comment With:
OR
The Choice is Yours!

कोई टिप्पणी नहीं: