ख्वाब



ख्वाब आँखों में ऐसे भी बसते हैं,
चेहरे रातों में ऐसे भी तपते हैं।

गुमनामी में चिराग लेके खोजते,
मोहरे राहों में ऐसे भी सजते हैं।

पलभर में बदलते पैंतरा अपना,
नखरे बाहों में ऐसे भी लखते हैं।

बात हो तो कोई भूले भी कैसे,
पहरे यादों में ऐसे भी चलते हैं।

©खामोशियाँ-२०१४//मिश्रा राहुल
(डायरी के पन्नो से)(०८-सितंबर-२०१४)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ख्वाहिशें

दुनिया

मैं गीत वही दोहराता हूँ